पति को पत्नी की प्रशंसा करने से एलर्जी क्यों ?

Share:

अपनी तारीफ सुनना भला किसे अच्छा नहीं लगता । प्रत्येक स्त्री हमेशा अपनी प्रशंसा ही सुनना चाहती है । तारीफ चाहे उसके रूप पर मुग्ध होकर की गयी हो या उसकी सुघड़ता की ।पर अक्सर ही महिलाओं की यह शिकायत रहती है कि उनके पति उनकी तारीफ नहीं करते ।

आप कभी पत्नियों के जमघट में बैठिये और प्रशंसा का मुद्दा छेड़ दीजिये । फिर देखिये , पत्नियां कैसी कैसी बातें बतलाती हैं । ” मेरे पति तो जैसे तारीफ करना जानते ही नहीं । ” श्रीमती जयश्री सिन्हा ने रोष व्यक्त किया , ” कितना ही बढ़िया खाना खिला दो परन्तु  यह हैं कि चुपचाप खाकर उठ जाते हैं । पूछने पर कहते हैं कि ठीक बंना है । कई बार तो मन करता है पूछूं कि रोज़ ही खाना एक – सा कैसे लगता है । आखिर कभी तो ज्यादा अच्छा लगता होगा ।”

अपने मन का गुबार श्रीमती रेखा  उप्रेती ने भी निकला , ” मैं तो इन चार सालों में अच्छी तरह समझ गयी हूँ कि तारीफ करना उनको आता ही नहीं है  ।मन में चाहे कितना ही खुश हो जाएँ , पर मुँह से कहने में तो इनकी जैसे जान निकलती है ।”

श्रीमती ज्योति सिंह भला कहाँ चुप रहने वाली थी , ” एक कहावत है न कि अपनी बेटी और परायी बीवी सबको अच्छी लगती है, मेरे पति पर यह कहावत पूरी तरह लागू होती है  । अपनी पत्नी को छोड़कर बाकि लोगों कि पत्नियों कि तारीफ यह खूब मन लगाकर करते हैं । वैसे मेरे विचार से अधिकांश शादीशुदा मर्दों कि यह आदत होती है । मैं तो यही सोचकर संतोष कर लेती हूँ कि यह न सही औरों के पति भी तो अपनी पत्नियों के सामने हमारी तारीफ करते होंगे । पति अपनी पत्नी कि तारीफ करे यह भला कैसे हो सकता होगा !”
श्रीमती सिंह का समर्थन किया श्रीमती अलका जोशी ने , ” शादी होते ही पति जैसे कसम खा लेते  हैं कि पत्नी की तारीफ तो वह करेंगे ही नहीं । हमारा प्रेम विवाह हुआ है । शादी के पहले मैं जब भी इनसे मिलती थी , यह मेरे सौंदर्य का ही वर्णन करने में लगे रहते थे । जबकि उस समय सच्चाई यह थी कि मैं दिन भर कॉलेज में पढ़ाने के बाद जब शाम को इनसे मिलती थी , तो थकान के कारण चेहरा एकदम सुस्त सा पड़ जाता था लेकिन अब कितने ही अच्छे से सज – संवर लूं, जनाब  हैं कि कभी भूले भटके ही तारीफ कर बैठते हैं ।”
क्या आपको भी अपने पति से यही शिकायत है कि वह आपकी  तारीफ नहीं करते । कहीं ऐसा तो नहीं कि आपके मन में पति के प्रति यह शिकायत बेबुनियाद हो । इसलिए ऐसी शिकायत करने से पहले जरा सोचिये ।
प्रशंसा सुनना तो आप पसंद करती हैं लेकिन अच्छी तरह सोचिये कि क्या वास्तव में आप कुछ ऐसा करती हैं , जिसकी तारीफ कि जाये ?
आप अपनी तारीफ तो सुनना चाहती हैं परन्तु क्या आप भी कभी पति की प्रशंसा करती हैं ? आपका विचार है की घर की जिम्मेदारी को उठाना , बच्चों और आपकी खुशियों का ख्याल रखना तो पति का काम ही है , इस कारण उनकी प्रशंसा क्यों की जाये । तब फिर घर – गृहस्थी की देखभाल करना , खाना बनाना आदि काम भी तो गृहिणी होने के नाते आप ही करती हैं । फिर आपके दिल में रोज़ इन्हीं कार्यों के लिए तारीफ सुनने की चाह क्यों ?
कई लोगों की यह आदत होती है कि वे अधिक नहीं बोलते । हो सकता है कि आपके पति भी इसी प्रकार के लोगों कि श्रेणी में आते हों । आप अपने पति की निगाहों में ढूंढिए तो सही , उनमें ज़रूर आपके लिए प्रशंसा ही मिलेगी ।
आपके पति कभी कभी आपके लिए कोई सुन्दर सा उपहार लेकर आते हैं । जब आपके पति आपको कोई सुन्दर सी गिफ्ट दें तो आप समझ जाइये कि वह आपसे बेहद खुश हैं  और उपहार उनकी ख़ुशी बनाम तारीफ जो उनके दिल में आपके लिए छुपी है , उसी का परिणाम है । आपके पति अपने दोस्तों से कहते हैं, ” यार ये चिप्स खाकर तो देखो , तुम्हारी भाभी ने घर में ही बनाये हैं, ”  या , ” सच में घर के खाने का स्वाद ही अलग होता है ” तो वास्तव में वह अपरोक्ष रूप से आपकी प्रशंसा ही तो करते हैं  ।
आपका मन फिर भी नहीं मानता है और आपकी दिली तमन्ना है कि पति के मुँह से तारीफ सुनें। हमारी राय मानिये और जब आपके पति अच्छे मूड में हों तो उनसे प्यार से कहिये कि वह आपकी कभी तो प्रशंसा किया करें ।
आप भी कभी कभी अपने पति की प्रशंसा किया करें । फिर देखिये , कैसे धीरे धीरे वह आपकी तारीफों के पुल बांधने शुरू कर देंगे।
एक बात और , बचपन से ही पुरुष को सदा भावनाओं की अभिव्यक्ति से कुछ दूर ही रखा जाता है । लड़का होता है तो कहा जाता है ,” क्या लड़कियों कि तरह रो रहे हो ” जीवन में जो कुछ भी कोमल होता है , वह लड़कियों के लिए माना जाता है । मर्दानगी की पहचान के लिए कड़े मापदण्ड बना दिए जाते हैं । घबराहट न दिखाना , भावुक न होना , कड़ाई बरतना आदि । इसलिए शायद  अधिकांश पुरुष किसी भी भावना को कोमलता से व्यक्त करने में आपने को असमर्थ पाते हैं ।
पति कभी प्रशंसा करना ही नहीं चाहते , यह हर पति के लिए नहीं कहा जा सकता । हाँ , उनके प्रशंसा करने का ढंग अलग हो सकता है । फिर यह भी तो सच है कि आपके पति यदि रोज़ ही बात बात पर आपकी तारीफ करना शुरू कर दें तो आपको भी उकताहट होने लगेगी ।

                                 मनोरमा प्रतिनिधि द्वारा ।


Share:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *