लव मेकिंग एवं सेक्स में अंतर /Difference between love making and sex

Share:

पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाना वह अवस्था है जिसमें आप सेक्स का आनंद उठाते हैं, अपने को मुक्त करते हैं और संतुष्टि का अनुभव करते हैं। लव मेकिंग में भी यह सब कुछ होता है पर इसके साथ भावनात्मक जुड़ाव रहता है जो केवल सेक्स में नहीं होता। लव मेकिंग, आप उसी के साथ कर सकते है जिसे आप बेहद प्यार करते हैं और उसके साथ गहरे भावनात्मक जुड़ाव के साथ-साथ प्रेम एवं गहरा रिश्ता हो। सेक्स आप किसी से भी कर सकते हैं चाहे आप उसे प्यार करें या कोई भी हो लेकिन लव मेकिंग आप केवल उसी से करेंगे जिसे आप प्यार करते हैंसेक्स पार्टनर कई हो सकते हैं पर लव मेकिंग किसी एक से ही होता है। सेक्स में भवनाएं जरूरी नहीं होतीं अगर आपका रिश्ता स्वतंत्र है तो। लव मेकिंग में भावनाएं होती हैं जिससे आनंद और बढ़ जाता है। जब आप यह महसूस करते हैं कि आप उसे आनंद दे रहे हैं जिसे आप प्यार करते हैं।

Having sex with a partner is a state in which you enjoy sex, free yourself and feel satisfaction. All this happens in love making too, but there is an emotional connection with it which does not happen only in sex. Love making, you can do it with the one whom you love dearly and have a deep emotional bond as well as love and a deep bond with him. You can have sex with anyone whether you love him or whoever but you will do love making only with the one whom you love. Sex partners can be many, but love making happens only from one. Emotions in sex are not necessary if your relationship is free. There are feelings in love making, which increases the joy. When you feel that you are giving pleasure to the one you love.

“लव मेकिंग में यौन संबंध के साथ प्यार का एहसास भी होता है।”

Love making involves feeling in love with sex.”

किसी भी कपल के बीच में यौन संबंध हो सकता है जिसे सेक्स कहते हैं। इसमें आवश्यक नहीं कि उनमें प्यार या कोई गहरा रिश्ता हो। लव मेकिंग में यौन संबंध के साथ प्यार का एहसास भी होता है। लव मेकिंग में आप पार्टनर के साथ केवल शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी अंतरंग हो जाते हैं। जबकि सेक्स उत्तेजना को शांत करने के लिए यौन संबंध बनाना है। सेक्स आप किसी कैजुअल पार्टनर से भी कर सकते हैं परंतु लव मेकिंग आप उसी से कर सकते हैं जिससे आप भावनात्मक रूप से जुड़े हों।

Any couple can have sex . It is not necessary that they in love with each other or in any deep relationship. In love making, there is a feeling of love along with sex. In love making, you become intimate with your partner not only physically but also mentally and emotionally. While sex is to pacify the excitement. You can also have sex with a casual partner, but you can make love only with whom you are emotionally attached.

Photo courtesy : www.medicalnewstoday.com

सेक्स में भावना का स्थान नहीं होता परंतु लव मेकिंग में भावना प्रबल होती है और कपल अंतरंगता के सहभागी होते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि लव मेकिंग ही प्यार की अभिव्यक्ति होती है जरूरी नहीं कि सेक्स में प्यार भी हो।

Emotions do not have a place in sex, but in love making, feelings prevail and couples are participants of intimacy. Some people say that love making is an expression of love, not necessarily love in sex.

सेक्स केवल यौन उत्तेजना को शांत कर देता है परंतु लव मेकिंग शारीरिक, भावनात्मक, मानसिक और यौन उत्तेजना को शांत करता है। सेक्स केवल शारीरिक क्रिया है जबकि लव मेकिंग अन्य सभी उत्तेजनाओं को शांत कर देती है। कुछ लोगों का मानना है कि जल्द यौन संबंध बनाना सेक्स है और लव मेकिंग धीरे और मधुर यौन संबंध को कहते हैं।

Sex only calms down the sexual excitement but love making calms down the physical, emotional, mental and sexual arousal. Sex is just a physical act whereas love making silences all other sensations. Some people believe that having sex early is sex and love making is about slow and sweet sex.


Share:

Write a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *